Thursday, December 4, 2014

शिक्षाप्रद वातावरण

सुविचार

ऐसी वाणी बोलिए
मन का आप खोये

ये कहावत आज कल सिर्फ किताबो के लिए रह गयी है
वरना आज कल के बच्चे  तो पहले खुद का आपा खोते हैं और उसके बाद ऐसी वाणी बोलते हैं की सुननेवाला अपना आप ही खो बैठता है

आज के बच्चो को सिर्फ किताबो की शिक्षा मिल रही है वरना हर तरफ झगडे और ऐसी मूवीज और टी वी पर इतना कुछ ऐसा ही देखने को मिलता है
अब इसमें उनका भी क्या कसूर
जो वो लोग देख रहे हैं उसी को फॉलो भी कर रहे हैं
ऐसे टी वी चैनल और मूवीज पर रोक लगानी चाहिए और बच्चों के चारो और शांत और शिक्षाप्रद वातावरण ही रखने की कोशिश करनी चाहिए

4 comments:

  1. बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए शिक्षाप्रद और स्वस्थ वातावरण बहुत आवश्यक है...बहुत सार्थक प्रस्तुति...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार कैलाश शर्मा जी

      Delete
  2. सही फरमाया है आपने। आज के समय मे बच्चों मे संस्करोबकि बहुत कमी है।बल्कि ये कहे की किताबी ज्ञान के अलावा बच्चों को संस्कारो के प्रति कोई रुझान नही रह गया है।

    ReplyDelete
  3. हार्दिक आभार अनुज जी

    ReplyDelete